तीन दिन बाद बेंगलुरु छेड़छाड़ मामले में केस दर्ज, पुलिस को मिले सबूत
4/1/2017
NationalDuniya

पुलिस ने आखिरकार तीन बाद बेंगलुरु में महिलाओं के साथ हुई छेड़छाड़ मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है। पुलिस ने दावा किया है कि उनके पास मामले को लेकर कई मजबूत सबूत जुटे हैं। सबूतों के आधार पर मामले की जांच शुरू हो गई है।

बेंगलुरु में नए साल का जश्न मना रही महिलाओं से कुछ हुड़दंगियों द्वारा की गई अभद्रता पर केंद्र सरकार ने सख्त रुख अपनाया है। वहीं, कुछ समाजसेवी संगठनों ने भी इस घटना पर आपत्ति जताते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बेंगलुरु में महिलाओं से हुई अभद्रता को शर्मनाक बताया है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा हर राज्य सरकार का कत्र्तव्य है और उन्हें इसे गंभीरता से लेना चाहिए। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने भी कहा कि इस घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि ऐसी शर्मनाक हरकतों को किसी भी दशा में सही नहीं ठहराया जा सकता।

गौरतलब है कि 31 दिसंबर की रात बेंगलुरु में एमजी रोड और ब्रिगेड रोड पर लोग नए साल का जश्न मना रहे थे। इस दौरान करीब 60 हजार लोग वहां जमे थे। इसी बीच, कुछ हुड़दंगी महिलाओं और लड़कियों से अभद्रता करने लगे। राज्य सरकार ने लोगों की सुरक्षा के लिए 1500 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई थी, लेकिन लोगों का आरोप है कि पुलिस मूकदर्शक की भूमिका में थी।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने मंगलवार को कनार्टक के गृह मंत्री जी. परमेश्वर और सपा नेता अबू आजमी को बेंगलुरु में महिलाओं से भीड़ की कथित छेड़खानी की घटना को लेकर उनकी आपत्तिजनक टिप्पणी पर समन जारी किया। आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने कहा, हमने जी. परमेश्वर और अबू आजमी को उनके बयानों के लिए समन भेजा है।

उन्होंने कहा, यह मायने नहीं रखता कि अबू आजमी किस दल से ताल्लुक रखते हैं। यह बेदर्द हकीकत है कि विभिन्न दलों के लोग ऐसे अपमानजनक बयान देते हैं। अगर इस स्तर पर लोग ऐसी बात कहेंगे, तो देश किस दिशा में बढ़ेगा। घटना पर स्वत: संज्ञान लेते हुए कुमारमंगलम ने डीजीपी, शहर पुलिस आयुक्त और गृह मंत्री को पत्र लिखकर जवाब मांगा है कि छेड़खानी की घटना में शामिल लोगों के खिलाफ तुरंत क्या कदम उठाया गया है।

अबु आजमी के बयान पर जताई गई आपत्ति

बेंगलुरु में महिलाओं से हुई अभद्रता मामले पर सपा नेता अबू आजमी ने आपत्तिजनक बयान दिया है। आजमी ने मंगलवार को कहा कि नववर्ष की पूर्व संध्या पर महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना पुलिस का कर्तव्य है, लेकिन महिलाओं को भी भूलना नहीं चाहिए कि सुरक्षा घर से शुरू होती है। देर रात पार्टी करना भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं है।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने आजमी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया जताई। उन्होंने ट्वीट किया, अबू आजमी का कहना है बलात्कार से बचने के लिए महिलाओं को अकेले बाहर नहीं जाना चाहिए, जैसा सऊदी में होता है। भारत को सऊदी बनाने के बजाय अबू को सऊदी चले जाना चाहिए।

 
Comment
Comment:
Email ID:
Posted By :
Location:
     
 
अन्य खबरें