बच्चे के बुखार को झट से करें दूर
5/2/2015
NationalDuniya
अगर आपके बच्चे को सर्दी-जुकाम और बुखार की शिकायत है, तो इन तरीकों को अपनाकर आप झट से उन्हें ठीक कर सकती हैं... बच्चे को फीवर है तो क्या करें? बाल रोग विशेषज्ञों की मानें तो, अगर बच्चे को 100.4 डिग्री सेल्सियस या इससे ज्यादा बुखार है, तभी चिंता करने की जरूरत है। अगर बच्चे की उम्र 6 महीने से कम है, या उसमें बुखार के दूसरे लक्षण दिखाई दे रहे हैं, या उसे दो दिन से ज्यादा बुखार है, या फिर उसका वैक्सीनेशन नहीं हुआ है तो ही डॉक्टर को बुलाएं। इसके अलावा अगर बच्चे को बुखार होता है तो बच्चों को आइबुप्रोफेन या फिर एसिटामिनोफेन दी जा सकती है। बाल रोग विशेषज्ञ बच्चों को एस्पीरिन न देने की सलाह देते हैं। उनके अनुसार इससे बच्चों के शरीर में रेज़ सिड्रोम होने की संभावना होती है। ये एक तरह की गंभीर बीमारी है जो बच्चे को लीवर और दिमाग पर असर डालती है। इस बीमारी को इग्नोर करना खतरनाक हो सकता है। ऐसे कम करें बच्चे का टैम्प्रेचर हल्के गर्म पानी से स्पन्ज बाथ आपकी मदद करेगा। लेकिन बच्चों का बुखार उतारने के लिए ठंडे पानी, ऐल्कोहल या बर्फ का इस्तेमाल कतई न करें। बुखार के दौरान अपने बच्चे को हल्के कपड़े पहनाएं और उन्हें कम्बल में न लपेटें। अगर उनमें डिहाइड्रेशन के संकेत दिखते हैं, तो तुरन्त डॉक्टर से सम्पर्क करें। उदाहरण के तौर पर अगर आपको बच्चे का डाइपर, जीभ या मुंह ड्राई लगता है या वो ठीक से फीडिंग नहीं कर रहा है तो बच्चे को तुरन्त डॉक्टर को दिखाएं। इन परिस्थितियों में बच्चों के डॉक्टर को बुलाएं फीवर और डिहाइड्रेशन के अलावा बच्चों के लिए डॉक्टर को कब बुलाया जाए ये जानना आपके लिए काफी इम्पॉर्टेंट है। अगर बच्चा एक साल से छोटा है और आपको लगता है कि उसे फ्लू है या वो ठीक से पानी नहीं पी रहा और पेशाब नहीं कर रहा तो डॉक्टर को दिखाएं। इसके अलावा अगर उसकी नाक से येलो या हरा बलगम आ रहा है तो भी डॉक्टर को दिखाना समझदारी रहेगी। अगर बुखार दो दिन से ज्यादा समय से है तो भी डॉक्टर से दवा लें। लेकिन अगर बच्चे को सांस लेने में परेशानी हो रही है तो तुरन्त इमरजेंसी रूम में ही डॉक्टर को दिखाएं। बच्चे का कोल्ड ठीक करने में मदद करता है चिकन सूप कुछ स्टडीज में ये नतीजा निकला है कि चिकन सूप सूजन और जलन को कम कर देता है। अगर ये भी न मानें तो, ये पोषक और हाइड्रेटेड तो होता ही है। इसके अलावा इसमें पानी, दूध जैसे तरल पदार्थ भी शरीर को मिलते हैं। इसके अलावा अगर आप कुछ दूसरे इलाज करना चाहती हैं, तो गर्म पानी से भाप लेना, विक्स का भाप लेना, या छाती पर विक्स की मालिश से भी बलगम में राहत मिलती है।
 
Comment
Comment:
Email ID:
Posted By :
Location:
     
 
अन्य खबरें